06 July 2020

मुंडी न मटके और काम भी हो जाए

कुछ लोग नमस्कार करते समय अपनी गर्दन, सिर को इतना ही हिलाते हैं कि बस उसके मन को मालूम चलता है कि नमस्कार की गई।


बेचारी गर्दन और बेचारे सिर को तो पता ही नहीं चल पाता कि उनके मालिक ने किसी को नमस्कार करने में उनका दुरुपयोग कर लिया।

जिसको नमस्कार की गई उसकी जानकारी की बस कल्पना करिए।


.
#हिन्दी_ब्लॉगिंग

(आज मूड नहीं कुछ लिखने का, गंभीर टाइप, सो बस इतना ही... शेष कल)

3 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (08-07-2020) को     "सयानी सियासत"     (चर्चा अंक-3756)     पर भी होगी। 
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'  
    --

    ReplyDelete