01 December 2010

भ्रष्टाचार का विरोध सब कर रहे हैं, आइये हम सफाया करें


भ्रष्टाचार...........भ्रष्टाचार.............भ्रष्टाचार!!! अब हर जगह इसी की चर्चा हो रही है। ब्लॉग पर तो इसकी चर्चा बहुत जोरों से और बहुत ही पहले से होती आ रही है। हमने भी कई बार अपने ब्लॉग पर इसको समाप्त करने के सम्बन्ध में सभी ब्लॉगर साथियों से अपील भी की है।

चित्र गूगल छवियों से साभार

अब देखने में आ रहा है कि भ्रष्टाचार पर आम आदमी, राजनेता, राजनैतिक दल, न्यायालय आदि-आदि अपना हमला कर चुके हैं। मंत्रियों ने भी इस पर अपनी राय देनी शुरू कर दी है। इससे ऐसा लगता है कि अब भ्रष्टाचार को मिटाने की पहल रंग ला सकती है।

पहल रंग लाये या न लाये पर एक बात तो है कि जिस तरह से जोरों से चारों ओर भ्रष्टाचार को मिटाने के लिए लोग अपनी राय व्यक्त कर रहे हैं यदि उसे अमल में लाया जाये तो वह दिन दूर नहीं जब देश से भ्रष्टाचार मिट जायेगा।

बहुत कुछ और बहुत ज्यादा कहते हुए बस इतना ही कहना है कि आइये हम मिलजुल कर भ्रष्टाचार को दूर करने के लिए काम करना शुरू कर दें। शायद हमारे प्रयास ही देश को उन्नत और स्वच्छ बना दें।


3 comments:

सुशील बाकलीवास said...

कुछ तो लोग कहेंगे, लोगों का काम है कहना,
मिट सके भ्रष्टाचार यदि, तब सार्थक है ये कहना.

शिवम् मिश्रा said...


बेहतरीन पोस्ट लेखन के बधाई !

आशा है कि अपने सार्थक लेखन से,आप इसी तरह, ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है-पधारें

एस.एम.मासूम said...

आइये हम मिलजुल कर भ्रष्टाचार को दूर करने के लिए काम करना शुरू कर दें।
उच्च विचार