30 November 2021

पान के बारे में उपयोगी जानकारी

पीठ दर्द, कमर दर्द, हड्डियों में दर्द इलाज में सबसे पहली चीज प्रिस्क्रिप्शन में होती है - कैल्शियम सप्लीमेंट। पहले जब मार्केट में सप्लिमेंट्स टेबलेट नहीं थे तब लोगों की हड्डियाँ, दांत कैसे दुरुस्त रहते थे?


ये बात बहुत कम लोग जानते हैं कि ताम्बूल (पान) इन तमाम समस्याओं में अत्यंत लाभकारी है। हमारे सारे परंपरागत विधि विधान में ताम्बूल का प्रयोग होता है। पान के पत्ते में बहुत ज्यादा मात्रा में कैल्शियम होता है। पान का पत्ता बहुत ही गुणकारी होता है।


इसमें एंटी ऑक्सीडेंट के गुण होते हैं। इसके अलावा पान के पत्ते में क्लोरोफिल बहुत ज्यादा होता है। इसके जूस से कई तरह की बीमारियां भी ठीक होती हैं। सर्दियों में इसका जूस पीने से मौसमी बीमारियों से भी बचाव होता है। इसे लेने से पाचन तंत्र भी ठीक रहता है। इसलिए भारतीय आहार में पान को विशिष्ट स्थान प्राप्त है। परंपरागत ही नहीं बल्कि शहरों में भी रात को खाना खाने के बाद पान खाने का चलन आज भी जीवित है।


पान के पत्तों में अवसाद दूर करने के गुण भी होते हैं यानि कि ये एक अच्छा Anti depressants है। इसके पत्ते stress-reliever का काम करते हैं। इसमें thiamine, niacin और carotene भी होता है जो हमारी सेहत के लिए बहुत महत्वपूर्ण तत्व हैं। आजकल ग्रीन जूस में पान के पत्ते का खूब प्रयोग होता है।




No comments:

Post a Comment