14 July 2010

बच्चे तो वाकई बच्चे हैं --- बड़े मासूम हैं


अपने ब्लॉग संसार में टहलने के दौरान बहुत से ब्लॉग पर से होकरगुजरना होता हैइसी क्रम में तीन ब्लॉग पर बच्चों से सम्बंधित पोस्टदिखीसोचा आपको भी परिचित करवा दें, बच्चों की इस मासूमियतसे

पोस्ट के मालिकगण कृपया अन्यथा नहीं लेंगे

========================================

Wednesday, July 14, 2010

बच्चे हैं या बाप रे बाप...खुशदीप

स्पाइडरमैन...




सारे घर के बदल डालूंगा...




चॉकलेट की बच्ची तू छिपी है कहां...





छलकाए जाम, आइए आपकी आंखों के नाम...



प्रेम की धारा बहाते चलो...


========================================

"ये बच्चे प्यारे-प्यारे है!" (डॉ।रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


>> Tuesday, July 13, 2010


सबकी आँखों के तारे हैं!
ये बच्चे प्यारे-प्यारे है!!

------------------

सबसे पहले देखिए-
आज तो मम्मी ने गाने के चक्कर मे किचेन का बुरा हाल कर रखा है.....


------------------

अब देखिए बचपन को-
- *समझण / दीनदयाल शर्मा*
सुसरो जी बहु सूं बोल्या-
बीनणी तंू आपरी सासू रो बुरौ ना मानी
अर आ' ना सोची कै ईं रै बोलण री आ'
के तमीज है आ' बापड़ी मीठी तो ईं कारण ...

------------------
अब देखिए-

सबसे बेहतर मेहतर



------------------
नन्हे सुमन भी देख ही लीजिए-
patti1
बीत गई सभ्यता पुरानी,
लकड़ी की पाटी होती थी,
बची न उसकी कोई निशानी।।
------------------
देखिए तो सही
सरस पायस पर रवि मुस्करा रहा है!
सूरज आया, सूरज आया।
वह तो सबके मन को भाया।
सूरज आया, सूरज आया।
अपनी धूप साथ में लाया।
सूरज आया, सूरज आया।
खूब पसीना सबको आया।
सूरज आया...

------------------
बहुत-बहुत मुबारक पाखी की दुनिया की
निराली अक्षिता (पाखी) को-
*अक्षिता पाखी** हिंदी ब्लॉग जगत की एक ऐसी मासूम चिट्ठाकारा,
जिसकी कविताओं और रेखाचित्र से
**ब्लोगोत्सव की शुरुआत** हुयी
और सच्चाई यह है कि उसकी रचनाओं की ...
------------------
एक बार मम्मी किचन में खाना बना रही थी और पता है क्या हुआ ?
क्या हुआ ......?
मम्मी नें प्रेशर कुक्कर खोला
तो उसमें से क्लाऊडस निकलने लगे ।
फ़िर...........? फ...

------------------
नन्हा मन पर देखिए-

चूचू जब भी पढने जाए चुपके से चिण्टी वहां आए करदे रूम की बत्ती बन्द छुप कर लेने लगे आनन्द अंधियारे में करे शैतानी कॊपी पर वो डाले पानी दबे पांव बाहर को जाए क...
------------------
अरे वाह?
यहाँ भी तो बच्चों के लिए कुछ है-

जिस राह से गुजर कर उसके दीवाने हो गए उस राह से गुजरे हुए कितने जमाने हो गए कालेज की बाते मुझसे मत किया करो मेरे 'उसके' किस्से बरसो पुराने हो गए ...
------------------
BAL SAJAG पर लीजिए बरसात का मज़ा!
बरसात का मौसम बरसात का मौसम बड़ा सुहाना ।
देता शीतल हवा और ठंडक ॥
बरसात का अब मौसम आया ।
बादल गरजा बरसा पानी ॥
खूब मजे से बच्चे नहाए ।
बरसात का मौसम बड़ा ...
------------------
मनुष्य कितनी गर्मी सह सकता है?
इस प्रश्न का उत्तर
भिन्न-भिन्न देशों व क्षेत्रों के लोगों के लिए अलग-अलग हो सकता है।
भारत व दक्षिणी देशों के लोग जितनी गर्...

------------------

माधव ने लगाया है

एक यात्रा संस्मरण!
पिछले हफ्ते मम्मी के साथ मेट्रो से कही गया .
मेट्रो में बहुत मजा आया .
अगले दिन फिर मम्मी से मेट्रो में चलने की जिद की .
"ट्रेन छुक छुक " कह कर रोने लगा . ...


------------------

Visit Us @ www.MumbaiHangOut.Org
Some people come into our lives and quickly go.
Some stay for awhile and leave footprints on our hearts.
And we are never, ever the same..
------------------
अब देखिए

एक प्यारी-सी ब्लॉगपरी

इससे मिलकर आपको मिलेगी - ख़ुशी

लविज़ा | Laviza कहती हैं
5 जुलाई को भारत बंद होने की वजह से मैं स्कूल जा नहीं पायी,
एक दिन मिस हो गया
लेकिन अगले दिन बिना मिस किये
मैं अपने प्ले स्कूल पहुँच गयी. पहला दिन...
------------------
और अन्त में मिलते हैं-
नमस्ते, आप सभी को एक दो अच्छी खबरें देना है।
हमारे बारे में हमारे पिताजी और मम्मा की तरफ से ब्लॉग पर काफी कुछ बताया जाता है।
इधर अब हम आपसे परिचय का क्षेत..
------------------
---------------------------------------------------------------
ये है इस पोस्ट की लिंक - http://mayankkhatima.blogspot.com/2010/07/blog-post.html

========================================

Tuesday, July 13, 2010

बच्चों की ये मासूमियत भरी अदा कातिलाना है








सभीछवियाँ गूगल से साभारली गईं हैं। ये सिर्फ एक मनोरंजन के लिए हैं कृपया अन्यथा न लें।
ये है इस पोस्ट की लिंक - http://aaodekho.blogspot.com/2010/07/blog-post.html


सभी पोस्ट ज्यों की त्यों यहाँ लगा दी हैं


6 comments:

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

ये बच्चे तो बडे बडों के बाप हैं।
................
पॉल बाबा का रहस्य।
आपकी प्रोफाइल कमेंट खा रही है?.

अक्षय कटोच *** AKSHAY KATOCH said...

ye sab kya hai kumarendra? apna hi likho, doosaron ki post par chrcha bahut se log kar rahe hain. in teeno post par mila jula kuchh likho wo achchha lagega.
Bachchon ke baare men kya kahaa jaaye we to vakai masoom hote hain.
teeno post ke logon ko bhi badhai ki bachchon ke baare men kuchh likha.
Kumarendra tum bachchon ke liye kyon kuchh nahin likhte ho? achchha likhoge. is par vichar larna.

अक्षय कटोच *** AKSHAY KATOCH said...

ye sab kya hai kumarendra? apna hi likho, doosaron ki post par chrcha bahut se log kar rahe hain. in teeno post par mila jula kuchh likho wo achchha lagega.
Bachchon ke baare men kya kahaa jaaye we to vakai masoom hote hain.
teeno post ke logon ko bhi badhai ki bachchon ke baare men kuchh likha.
Kumarendra tum bachchon ke liye kyon kuchh nahin likhte ho? achchha likhoge. is par vichar larna.

शिवम् मिश्रा said...

एक बेहद उम्दा पोस्ट के लिए आपको बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनाएं !
आपकी चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है यहां भी आएं

Anonymous said...

achha chitran hai bachchon ka

Anonymous said...

achha chitran hai bachchon ka