10 November 2009

कपडे तो पहनती नहीं और लौंड्री का बिल एक लाख का

एक चुटकुला, उससे पहले एक निवेदन............. इस चुटकुले को बस चुटकुले की तरह ही लें, हमारी पुरानी पोस्ट के आधार पर आकलन न करें।
अभी-अभी हमारे मोबाइल पर हमारे एक मित्र का संदेश आया, पढ़ कर हँसी आई तो सोचा आपको भी हँसवा दें
==========================
एक इनकम टेक्स अधिकारी कुछ कागज़ देख कर हँस रहा था।

क्लर्क ने पूछा, साहब, क्यों हँस रहे हैं?
अधिकारी ने कहा - मल्लिका शेरावत का रिटर्न है.
क्लर्क बोला - तो?
अधिकारी ने कहा - कपडे तो पहनती नहीं है और लौंड्री का बिल एक लाख का दिखाया है.

8 comments:

Mithilesh dubey said...

वैसे है तो चुटकुला लेकिन बात भी सही है।

Dr.Aditya Kumar said...

मनोरंजक अभिव्यक्ति. मल्लिका शेरावत के कपडों की तरह हमारी अच्छी परम्पराएँ बजी कम होती जा रहीं हैं ,सर्वत्र नंगई ही दिख रहीं है व्यव्स्थापिकाएं तक मनोरंजन का विषय बन गयी है

काजल कुमार Kajal Kumar said...

हा हा हा

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

मजेदार है!

AlbelaKhatri.com said...

ha ha ha ha

शरद कोकास said...

अरे इसे आप चुटकुला कहते है ? सच महंगाई कितनी बढ़ गई है ।

अमित जैन (जोक्पीडिया ) said...

बहुत बढ़िया

Dipak 'Mashal' said...

Income tax bachane ke hathkande hain sab warna adhikari ki baat sahi hai... jaanch honi chahiye.. :)
Jai Hind...