18 December 2010

युवराज, देश को समझने के लिए चापलूसों से मुक्ति पाओ


मीडिया के द्वारा घोषित देश के युवराज राहुल के द्वारा लगातार देश का दौरा किया जा रहा है। देश के हालातों को समझा जा रहा है, ये बात अलग है कि देश के हालातों को वे समझ नहीं पा रहे हैं। पिछले कुछ दिनों पूर्व उनके द्वारा दलितों के घर पर सोने, खाने का नाटक रचा गया। इसके साथ-साथ मिट्टी ढोने का क्रम भी चला।

चित्र गूगल छवियों से साभार

इधर अब एक और खुलासा हो गया। अब उनको हिन्दू आतंकवाद का खतरा दिखाई देने लगा। पहले भी वे सिमी और आर0एस0एस0 को एकसमान बता चुके हैं। अब........

इस विषय पर ज्यादा नहीं लिखना है। बस इतना लिखना है कि देश को समझने का एक कार्यक्रम कई दशकों पहले महात्मा गांधी ने चलाया था और इस समय अपने नाम के आगे गांधी शब्द लिखे मीडिया के युवराज देश को समझने का नाटक फैलाये पड़े हैं।

देश में फैली विभिन्न प्रकार की समस्याओं को नजरअंदाज कर उन्हें सिर्फ हिन्दू आतंकवाद दिख रहा है इससे अंदाज लगाया जा सकता है कि उन्होंने देश को कितना समझा है। उनकी समझ का एक लाभ बिहार में भी दिखा है।

राहुल जी अब देश को समझने का प्रयास बन्द करो और भारतीय राजनीति को समझने का प्रयास करो। देश को समझने के लिए पार्टी के चापलूसों से बाहर आना पड़ेगा जो आप करना नहीं चाहते और आपके आसपास रह रहे चापलूस भी ऐसा नहीं करने दे रहे हैं।

आइये युवराज जी, चापलूसों से मुक्ति पाकर कभी हिन्दू धर्म और उसकी सहिष्णुता को देखने-सममझने का प्रयास करना। हो सकता है कि आप देश को भले ही समझ पायें पर जीवन की सत्यता और अपने आसपास के लोगों की हकीकत को अवश्य ही समझ लेंगे।


2 comments: