08 November 2010

मजा आ गया ओबामा जी का स्वागत करके


इन दिनों सारा देश ओबामामय हो गया है। इधर हम चुनावमय हुए हैं इस कारण से ओबामा जी की खारितदारी पूरी तरह से नहीं कर पा रहे हैं। हम इस गौरव से वंचित रहे जा रहे हैं कि विश्व के एकमात्र सर्वशक्तिमान देश के शक्तिशाली महामहिम हमारे देश में आये हैं और हम उनका स्वागत भी नहीं कर पा रहे हैं।

चित्र गूगल छवियों से साभार

यह बात तो तय है कि हम जैसे लोग तो उन्हें अपने टी0वी0 सेट पर ही हंसते, हाथ हिलाते देखकर धन्य हो लेते हैं। इस मुए चुनाव के चक्कर में विश्व के सबसे शक्तिशाली व्यक्ति को हाथ हिलाते भी नहीं देख पाये। बेचारे! पता नहीं हमारे बारे में क्या धारणा लेकर जायेंगे?

हमारे बारे में चाहे जो धारणा बनायें पर देश की सांस्कृतिक विरासत पर अपनी धारणा पुष्ट करके गये हैं। अभी तो हमें यह पूरी तरह से पता नहीं कि कब जाना है, कब जायेंगे, अभी गये भी या नहीं। इधर आज थोड़ा सा समय मिला तो हमने मौका निकाल ही लिया ओबामा जी से मिलने का।

अपने एक दोस्त से पता चला कि संसद को सम्बोधित कर रहे हैं और संसद तो हमारे घर के एकदम पास है। जी हां इतना पास कि बस टी0वी0 खोलो और संसद दिख जाये। बस क्या था, टी0वी0 खोला और देखा कि ओबामा जी तो हाथ मिलाने लगे हैं। फिर हमने समाचारों में उनको बार-बार देखा।

इधर अब चर्चा हो रही है कि वे हमें क्या देकर गये और हमसे क्या लेकर गये। सुरक्षा परिषद में पक्का स्थान का सपना? अमेरिका में नौकरियों की लॉलीपॉप? लश्कर जैसे आतंकवादी संगठनों को समाप्त करने की चुनौती? गांधी-अम्बेडकर के नाम पर तालियां?

क्या इनकी आड़ में आपको पता है कि पोखरन परमाणु धमाकों के बाद अमेरिका की ओर से लगाये गये कुछ प्रतिबन्ध अभी भी लागू हैं? क्या आपको पता है कि अमेरिका की ओर से कोई ऐसा कदम अभी तक नहीं उठाया गया है जो देश के हित में हो?

चलिए ये तो हुई बेकार की बात। बाकी सारे देश की तरह, सारे नेताओं की तरह, सारी मीडिया की तरह हम भी प्रसन्न हैं कि विश्व के सर्वशक्तिमान देश के महान नेता ने हमारे देश की धरती पर कदम रखा। उसने मुम्बई बम धमाकों में मारे गये लोगों को श्रद्धासुमन अर्पित किये। हमें प्रसन्नता इस बात की है उसने हमें उसकी आवभगत करने का मौका दिया।

चलो छोड़ो सब कुछ और मजा करो, प्रसन्न हो, गर्व करो कि ओबामा जी ने हमें अपनी खातिरदारी का मौका दिया।

--------------------------

शिक्षक विधायक पद हेतु मतदान इसी 10 तारीख को है। 12 को मतगणना होनी है, यदि मौका मिला तो कल मुलाकात होगी अन्यथा 12 को परिणाम आने के बाद जैसा परिणाम आये उसी के अनुसार मुलाकात...............।


2 comments:

Dr.Aditya Kumar said...

आये ओबामा , देखा सभी ने सुपरहिट ड्रामा

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

अब पटाक्षेप हो गया ..क्या पाया क्या खोया बाद में पता चलेगा ..