23 November 2009

स्त्री-विमर्श का झंडा बुलंद करने वाली महिलायें इन महिलाओं के बारे में भी जानें


स्त्री-चेतना के विकास के लिए आज स्त्री-विमर्श को प्रमुख माना जा रहा है। स्त्री-विमर्श क्या है और भारतीय संदर्भों में इसकी क्या उपयोगिता, क्या आवश्यकता है इसे समझने की आवश्यकता है। स्त्री-विमर्श को संदर्भित रूप में देखा जाये तो यह पश्चिम से आयातित शब्द है जिसने वहाँ की महिलाओं को स्वतन्त्रता प्रदान की। पश्चिम में एक समय वह भी आया जबकि स्त्री-विमर्श से जुड़े कई लोगों ने अपने आपको नारीवादी आन्दोलन से बापस कर लिया।
भारतीय संदर्भों में जब भी स्त्री-विमर्श की चर्चा की जाती है तो वह तुलसीदास से शुरू होकर आज की किसी प्रमुख हस्ती के साथ समाप्त हो जाती है। जो नारीवादी स्त्रियाँ अपने आपको स्त्री-विमर्श का पुरोधा मानतीं हैं वे बात-बात पर महिलाओं को रोके जाने के उदाहरण दिया करतीं हैं।
यहाँ यह बताना ज्यादा दिलचस्प होगा कि यदि कोई महिला विकास नहीं कर पाती है तो उसके पीछे पुरुष की भेदभाव भरी नीति काम करती है और यदि किसी महिला ने विकास कर लिया तो यह उसकी अपनी प्रेरणा, अपनी चेतना, अपना संघर्ष कहा जायेगा। कुछ भी हो महिलाओं ने हमारे देश में प्राचीन काल से ही सम्मानजनक दर्जा पाया है, उनके काम भी अविस्मरणीय रहे हैं।
यहाँ विवाद यह नही कि किसने क्या किया और किसने क्या नहीं करने दिया। आज की पोस्ट के द्वारा हम कुछ नाम आपके सामने रख रहे है, कृपया बतायें कि ये कौन हैं? इनका नाम किस क्षेत्र में उल्लेखनीय है? कहीं ऐसा तो नहीं कि पुरुष मानसिकता के कारण ये हमेशा हाशिये पर रहीं और स्वयं महिलाओं ने भी इनके बारे में जानने का प्रयास नहीं किया?
आग्रह विशेष रूप से स्त्री-विमर्श की पुरोधा महिलाओं से, जो बात-बात पर झंडा लेकर पुरुष समाज के विरुद्ध निकल पड़तीं हैं कि कहीं इन महिलाओं को आप लोगों ने भी तो विस्मृत नहीं कर दिया है?
इन महिलाओं के नाम इस प्रकार हैं--

1) हंसा मेंहता
2) राजकुमारी अमृत कौर
3) सरोजनी नायडू
4) अम्मू स्वामीनाथन
5) दुर्गाबाई देशमुख
6) सुचेता कृपलानी
7) रेणुका रे
8) लीला रे
9) पूर्णिमा बैनर्जी
10) कमला चैधरी
11) मालती चैधरी
12) दक्षयानी वेलायुदान

---------------------
आपकी सुविधा के लिए बता दें कि ये नाम स्वतन्त्रता के समय के हैं। हो सकता है कि आधुनिक ललनाओं ने इनके नाम भी न सुन रखे हों? आखिर उनकी आदर्श महिलाओं में ये नाम नहीं फिल्मी ग्लैमर गल्र्स के नाम होंगे?
---------------------
चलिए खोजिए इनका योगदान, हम तो 25 तारीख को बता ही देंगे।

2 comments:

शिवम् मिश्रा said...

डोक्टर साहब, बहुत बढ़िया पोस्ट लगाई है ! यह तो हम भी जानना चाहेगे कि यह सब किस किस महान हस्तियों के नाम है हलाकि कुछ नाम सुने हुए है !
बाकी २५ का ईन्तजार रहेगा !

बी एस पाबला said...

आज तो 25 हो गई, तब नज़र पड़ी हमारी :-(

अब तो इंतज़ार है

बी एस पाबला