03 May 2009

निर्भर हैं पर विकास करेंगे

समाज को सुधारने का काम, समाज की स्थिति पर चर्चा, समाज में चल रही बुराइयों को दूर करने का प्रयास करना आदि ऐसी बातें हैं जिनपर अब हम लोग किसी भी प्रकार से जागरूकता नहीं दिखा रहे हैं। समस्याओं के सुधार के नाम पर हम चाहते हैं कि हमारी निजी समस्याओं का निस्तारण हो जाये। चर्चा के नाम पर हम इतना कर लेते हैं कि जहाँ कहीं भीड़ हो वहाँ अपनी वाहवाही करवाने की दृष्टि से कुछ सैद्धांतिक बातें कर लेते हैं। इन्हीं दो-चार कामों से हम समझते हैं कि हम समाज के प्रति अपना फर्ज निभा चुके।
समाज के प्रति अपने फर्ज को एक और रूप में भी हम निभाने का प्रयास करते हैं। इसमें हम किसी भी दूसरे के कार्यों के साथ स्वयं का तारतम्य बनाने का प्रयास करते हैं और बिना कुछ भी सोचे-समझे उसी के अच्छे-बुरे में सहयोगी बन जाते हैं।
क्या वाकई अब हम सबकी वैयक्तिक सोच समाप्त हो गई है? इस सवाल के पीछे कारण ये है कि वर्तमान चुनावी परिदृश्य में देखने में आया है कि हम अपनी सोच से इतर किसी दूसरे की सोच को महत्व देते दिखे हैं। यही हालत आज कमोवेश हम सभी की है। अविश्वास, अंधकार, निराशा आदि हमें इस कदर घेर चुके हैं कि किसी दूसरे की राय लिये बिना हम अपने कदम को भी सही नहीं ठहरा पाते हैं।
आप देखिये यह अधिकतर सभी के साथ होता होगा कि हमारे परिवार-पड़ोस-मित्र आदि का बच्चा अपनी रुचि के अनुसार नहीं वरन् अपने अभिभावकों, अध्यापको, साथियों, रिश्तेदारों के कहने से अपना कैरियर सँवारने का प्रयास करता है। किसी अन्य कोर्स के लिए दाखिला लेने के लिए भी वह किसी अन्य की सलाह का इंतजार करता है बजाय यह देखे कि स्वयं उसमें क्या क्षमता, क्या योग्यता है।
आज हमारे राजनैतिक दल भी कुछ ऐसा ही करते दिख रहे हैं। अपनी क्षमताओं को देखे बिना ही स्वयं को अगुआ मान रहे हैं। यही हमारे नीति-नियंता हैं, इनसे ही हमारे देश को प्रगति की राह पकड़नी है। क्या वाकई इस प्रकार की निर्भरतावादी सोच से देश का, समाज का, परिवार का, व्यक्ति का विकास सम्भव है?

चुनावी चकल्लस-

रंग उनके बदले-बदले से लगे हैं,
दुश्मन भी दोस्त से लगने लगे हैं,
कहते हैं मन नहीं मतभेद थे हममें,
अब वे मतभेदों को भुलाने में लगे हैं।

1 comment:

AlbelaKhatri.com said...

desh ki kisi neta ko nahi padi hai, sab k sab P.M.banane ko mare ja rahe hain..........aapka swal achha hai ki kaun ho PM toh iska bada anootha,maulik asur sateek jawab maine mere 2 aalekhon---MILKAR KHAO YAAR aur MEGA PRADHAN MANTRI-MANDAL me likh diya hai kripya uska avalokan zaroor karlen...aayiye swagat hai mere blog par aapka...DHANYAVAAD
-albela khatri
www.albelakhatri.com