26 April 2010

आई पी एल, खेल पैसे का खेले, मोदी थरूर --- चन्द हाइकु


आई0 पी0 एल0 के गोरखधंधे का परिणाम क्या होगा ये तो सिर्फ जाँच करने वालों को ही मालूम होगा। सत्यता कुछ भी हो किन्तु यह तो सत्य ही है कि सिवाय हटने-हटाने के कुछ और नहीं होगा।

देश के अंधे दीवाने दर्शकों के लिए यही सबक होना चाहिए किन्तु जिस निर्लज्जता से दर्शकों ने फाइनल को देखने का जुनून दिखाया उससे लगता है कि अब आई0 पी0 एल0 के गोरखधंधेबाज इसको देश से बाहर चलाकर ही अपना उल्लू सीधा करेंगे। हाँ, यदि देश में भी करवाया तो सब कुछ इतना पर्दे के पीछे होगा कि किसी को भी भनक नहीं होगी। मोदी-थरूर की घटना ने इनको एक सबक तो दे ही दिया है।

बेचारे दर्शक, अब बेचारे बिलकुल भी नहीं हैं। वे तो बेशर्म, निर्लज्ज, चिकने घड़े हो गये हैं जिनके लिए सिर्फ और सिर्फ हुल्लड़ मचाना प्राथमिकता में है। खेल, देश, अपने धन की कोई फिक्र नहीं।

इसी आई0 पी0 एल0 के हुड़दंग में हमने भी कलम की हुड़दंग मचा ली, हाइकु के रूप में। वहीं आपके सामने है----

------------------------

आई पी एल,
खेल पैसे का खेले,
मोदी थरूर।

दीवानगी में,
होश नहीं कुछ भी,
दर्शक लुटे।

खेल गर्त में,
खिलाड़ी भागते हैं,
पीछे धन के।

खेल भावना,
हुई छूतंमर है,
धन के पीछे।

गोरखधंधा,
खेल से फैला हुआ,
चारों तरफ।

आहत मन,
है सांसत में जान ,
कि बुरे फँसे।

कुछ होगा,
पकड़ेंगे किसको,
सबूत कहाँ।

चोर चोर हैं
बने मौसेरे भाई,
यही खेल है।

रहेगा चालू,
मिलीभगत का खेल,
पैसा है पैसा।

मरने वालो,
आई पी एल पर,
अब तो जागो।




(चित्र गूगल छवियों से साभार)

4 comments:

honesty project democracy said...

IPL ने BPL की मुश्किलें और बढ़ा दी है / थरूर जैसे और भी कई मंत्री हैं जिनके इस्तीफे की देश को अविलम्ब जरूरत है / इस देश में कानून और व्यवस्था को सुधारने के लिए ,पूरे देश को एक जुट होकर सत्यमेव जयते की रक्षा के लिए, सर पर कफ़न बांधना होगा /ऐसे ही प्रस्तुती और सोच से ब्लॉग की सार्थकता बढ़ेगी / आशा है आप भविष्य में भी ब्लॉग की सार्थकता को बढाकर,उसे एक सशक्त सामानांतर मिडिया के रूप में स्थापित करने में,अपना बहुमूल्य व सक्रिय योगदान देते रहेंगे / आप देश हित में हमारे ब्लॉग के इस पोस्ट http://honestyprojectrealdemocracy.blogspot.com/2010/04/blog-post_16.html पर पधारकर १०० शब्दों में अपना बहुमूल्य विचार भी जरूर व्यक्त करें / विचार और टिप्पणियां ही ब्लॉग की ताकत है / हमने उम्दा विचारों को सम्मानित करने की व्यवस्था भी कर रखा है / इस हफ्ते उम्दा विचार के लिए अजित गुप्ता जी सम्मानित की गयी हैं

शैफालिका - ओस की बूँद said...

SIR JI SUNDAR............
AABHAR

शैफालिका - ओस की बूँद said...

SIR JI SUNDAR............
AABHAR

अक्षय कटोच *** AKSHAY KATOCH said...

सुन्दर रचना....सभी को मिला कर एक पूरा आई पी एल खेल डाला तुमने.... इसमें तो कोई झोल झाल नहीं है????