02 November 2009

सरदार पटेल और इंदिरा की याद मे विचार-गोष्ठी

31 अक्टूबर को सरदार बल्लभ भाई पटेल जी की जन्मतिथि तथा इन्दिरा गाँधी की पुण्य तिथि थी। लगभग सारे देश में अलग-अलग प्रकार से दोनों महान व्यक्तियों से सम्ब्न्धित इस दिन को मनाया गया।
हमारे शहर के स्थानीय महाविद्यालय दयानन्द वैदिक स्नातकोत्तर महाविद्यालय में राजनीति विज्ञान विभाग में छोटी-छोटी गोष्ठियाँ, किसी तत्कालीन मुद्दे पर विचारों का आदान-प्रदान होता रहता है। इसके पीछे विभागाध्यक्ष डा0 आदित्य कुमार जी का विशेष योगदान रहता है। वे हमेशा युवाओं को कुछ नया करने की प्रेरणा देते रहते हैं।

बाएँ से डॉ० अनिल कुमार श्रीवास्तव (प्राचार्य) तथा डॉ० आदित्य कुमार (विभागाध्यक्ष)


इस दिन भी उनके ही प्रोत्साहन और उत्साह के कारण एक छोटी सी विचार गोष्ठी विभाग में आयोजित कर ली गई। वैसे हम राजनीति विज्ञान विभाग में नहीं हैं पर डा0 आदित्य जी का पितातुल्य स्नेह हमारे ऊपर सदा रहता है और उसी के वशीभूत हम भी अचानक विभाग में पहुँच गये। हमने भी विचार-गोष्ठी का आनन्द उठाया।
एक विशेष बात वहीं जाकर पता चली कि विभाग में कार्यरत युवा प्रवक्ता डा0 नगमा खानम का 31 अक्टूबर को जन्मदिन भी है। बस विचार-गोष्ठी भी हुई और जन्मदिन की पार्टी भी उड़ा ली।
गोष्ठी को संक्षिप्त में आपके सामने भी चित्रों सहित रखने का प्रयास है----
गोष्ठी की शुरुआत नगमा ने ही की। उन्होंने इन्दिरा गाँधी के दृढ़ चरित्र के बारे में बताते हुए आज की महिलाओं को उनके व्यक्तित्व से कुछ सीख लेने की सलाह दी।

बाएँ से - रणविजय, डॉ० नगमा खानम (राजनीति विज्ञानं विभाग, बर्थडे बेबी) डॉ० पूनम निरंजन (इतिहास विभाग)

बैठे हुए - डॉ० कांति जी (संस्कृत विभाग)


राजनीति विज्ञान विभाग के ही रविकान्त ने सरदार पटेल के बारे में बताया तो इसी विभाग के रणविजय ने इन्दिरा गाँधी के बारे में बताया। दोनों ही राजनीति विज्ञान में रिसर्च कर रहे हैं।
संस्कृत विभाग की डा0 कान्ति जी ने इन्दिरा जी के बारे में एक पंक्ति के द्वारा महत्वपूर्ण बात कह दी कि संसार में इंदिरा गाँधी ही एकमात्र ऐसी महिला हैं जिन्होंने इतिहास बदलने के साथ-साथ भूगोल भी बदल दिया।
विभागाध्यक्ष डा0 आदित्य कुमार ने दोनों शख्सियतों के बारे में बताते हुए रियासतों के एकीकरण तथा इमरजेंसी की स्थितियों के बारे में समझाया।
रक्षाअध्ययन विभाग के डा0 आर0 के0 निगम ने गुटनिरपेक्ष आन्दोलन के बारे में बताते हुए इंदिरा गाँधी की कूटनीतिज्ञ क्षमता को विश्व में सबसे अलग स्वीकारा।

खड़े हुए बाएँ से - डॉ० अतुल प्रकाश बुधौलिया (अंग्रेजी विभाग) डॉ० वीरेन्द्र सिंह यादव (हिन्दी विभाग)

बैठे हुए बाएँ से - डॉ० आर० के० निगम (रक्षा अध्ययन विभाग) डॉ० अनिल कुमार श्रीवास्तव (प्राचार्य)


महाविद्यालय के प्राचार्य डा0 अनिल कुमार श्रीवास्तव ने दोनों महान व्यक्तित्वों पर प्रकाश डालते हुए कहा कि हमें इन लोगों की अच्छाइयों को सीखना होगा तथा बुराइयों को इस कारण याद रखना होगा कि हममें वे कमियाँ न आयें। उन्होंने पटेल को दृढ़ तथा दूरदर्शी बताया तो इंदिरा को जीवट महिला करार दिया। उन्होंने कहा कि एक यदि लौह पुरुष है तो दूसरी को लौह महिला कहा जा सकता है।
विचार-गोष्ठी में अंग्रेजी विभाग के प्रवक्ता डा0 अतुल प्रकाश बुधौलिया, हिन्दी विभाग के प्रवक्ता डा0 वीरेन्द्र सिंह यादव, इतिहास विभाग की प्रवक्ता डा0 पूनम निरंजन, अर्थशास्त्र विभाग के प्रवक्ता डा0 आशीष अग्रवाल तथा हमने भी अपने संक्षिप्त विचार रखे।

2 comments:

Udan Tashtari said...

अच्छा लगा जान कर. आभार इस रिपोर्ट का.

शरद कोकास said...

रपत अच्छी है इन्दिरा जी व पटेल जी की स्मृति को नमन