17 October 2009

चलिए औपचारिकता में ही स्वीकारें दीपावली की शुभकामनायें





दीपावली की सभी को सभी लोग शुभकामनायें देने में लगे हैं। इस बार भी वहीं हो रहा है जो हर बार होता है। अपने शुभचिन्तकों को शुभकामनायें देना और उनसे लेना। शाम को पूजन और आतिशबाजी के दौर।
लोगों को शुभकामनायें देने-लेने में लक्ष्मी जी के आगमन की अपेक्षा, सुख-समृद्धि आने की कामना। रात को आतिशबाजी के माध्यम से धन का अपव्यय, जुए की चालों के द्वारा भी धन का जाना।
इस बार कुछ नया सा भी लगा है, हमें विशेष रूप से लगा है पता नहीं पहले भी ऐसा हुआ है या नहीं, मिठाई तथा अन्य खाद्य पदार्थों के नकलीपन से बचने के सन्देशों का भी आदान-प्रदान होना। हमें याद नहीं पड़ता कि इससे पहले के त्यौहारों पर हमने मिठाई आदि के नकली होने की आशंका व्यक्त की हो?
ऐसी स्थिति में यह सवाल उठना लाजिमी है कि जब हम अपने अंदर की कालिख को, अन्दर के अँधियारे को मिटा नहीं पाये हैं तो दूसरों के अँधेरों को मिटाने की कामना किस आधार पर कर रहे हैं?
हमने नकली खाद्य-सामग्री के रूप में दूसरों की सुख-समृद्धि को नष्ट करने का प्रयास कर लिया है तो कैसे किसी और के सुखी होने की कामना कर सकते हैं?
क्या-क्या कहा जाये, कितना-कितना कहा जाये? खुशियों के नाम पर हम लोगों को जहर दे रहे हैं। आतिशी उमंग अब हमें प्रफुल्लित नहीं करती वरन् आपसी रंजिश की ओर ले जाती है। ऐसी स्थिति में त्यौहारों की औपचारिकता का निर्वाह हम लोग कर लेते हैं।
चलिये इसी परम्परा निर्वहन के रूप में आप सभी को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें (पता नहीं हृदय कहाँ है?)
अन्य लोगों की तरह आपके लिए भी सन्देश---

ज्यादा आतिशबाजी के द्वारा पर्यावरण को नुकसान न पहुँचायें।
नकली मिठाई एवं अन्य खाद्य पदार्थों से बचें।

(कल से तो पर्यावरण को नुकसान पहुँचाना ही है, मिठाई के साथ-साथ दूसरी चीजों में भी नकलीपन लाना है। अरे! जब हमारे व्यवहार में नकलीपन आ गया है और तो और अब तो खून भी मिलावटी बेचना शुरू कर दिया तो इन संदेशों का क्या अर्थ है? फिर भी औपचारिकता का निर्वाह तो करना ही है।)
शुभ दीपावली ----- शुभ दीपावली

8 comments:

Udan Tashtari said...

सही है..

सुख औ’ समृद्धि आपके अंगना झिलमिलाएँ,
दीपक अमन के चारों दिशाओं में जगमगाएँ
खुशियाँ आपके द्वार पर आकर खुशी मनाएँ..
दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ!

सादर

-समीर लाल 'समीर'

AlbelaKhatri.com said...

वाह !


आपको और आपके परिवार को दीपोत्सव की

हार्दिक बधाइयां

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

यह दिया है ज्ञान का, जलता रहेगा।
युग सदा विज्ञान का, चलता रहेगा।।
रोशनी से इस धरा को जगमगाएँ!
दीप-उत्सव पर बहुत शुभ-कामनाएँ!!

Ratan Singh Shekhawat said...

दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ

संगीता पुरी said...

पल पल सुनहरे फूल खिले , कभी न हो कांटों का सामना ! जिंदगी आपकी खुशियों से भरी रहे , दीपावली पर हमारी यही शुभकामना !!

"अर्श" said...

दिवाली की समस्त शुभकामनाएं पुरे परिवार को ...


अर्श

Dr.Aditya Kumar said...

पर्यावरण एवं मिलावट के प्रति सतर्कता का सन्देश देती अच्छी पोस्ट.

अर्शिया said...

तो फिर हमारी ओर से भी औपचारिता ग्रहण कर लीजिए।
( Treasurer-S. T. )