09 June 2008

साहित्य की धारा

इस समय किसी अन्य विषय पर कुछ लिखने का मन नहीं कर रहा था। बैठे-बैठे सोचा क्यों न इस बार कुछ साहित्यिक हो जाए। वैसे साहित्य के लिए मैंने एक ब्लॉग http://spandanhindi.blogspot.com/ अलग बना रखा है। उसमे अभी अपनी लघुकथाएँ लिखी हैं। इस बार यहाँ उन्ही का मजा लीजिये। एक लघुकथा है भूख तथा दूसरी लघुकथा जो एक माँ की बेबसी को केन्द्र बना कर लिखी थी वो है माँ की ममता

आशा है आप लोग साहित्य की इस धारा का भी आनंद उठाएंगे।

No comments: